Archive for June, 2016

चुप्पी

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

चुप्पी के इस अवतार में , सरकार के कारोबार में, चुप्पियों के इस पुरातन और नए फैशन में, एक चुटकी चुप्पी तोड़ने के लिए , चलो चुप्पी को एक चित्कार से रूबरू करवाते हैं… एक चुप्पी को तोड़ने के लिए एक मूठठ चित्कार ज़रूरी है।

Rajkumar

Tonk 6/10/15

If you got

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

If  you got some matter without own need 

Then matters are creating illusion

 

Rajkumar Rajak

Tonk

1:11

1/10/15

पानी प्रलय

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

प्रलय के इस तूफ़ान में जला है मेरा गाँव -3

गाँव मेरा घर

ये गाँव मेरा घर

पानियों की आस में जला है मेरा घर -2

जला है मेरा तन

जला है मेरा मन

इन पानियों की आस में जला है मेरा मन

जले हैं मेरे सपने

जले हैं मेरे अपने

इन पानियों की आस में जले हैं मेरे अपने

जले हैं मेरे सपने

पानियों की आस में जले हैं मेरे सपने

ये आस  मेरी प्यास है

जले हैं मेरे सपने-2

इन पानियों की आस में जला है मेरा मन

जले हैं मेरे सपने

ये सपने मेरे अपने

इन बेड़ियों को तोड़ चला है मेरा मन

चला है मेरा मन

ये आस मेरी प्यास है

जले हैं मेरे सपने

जले हैं मेरे अपने

इन पानियों की आस में जला है मेरा मन

जले हैं मेरे सपने जले हैं मेरे अपने

 

 

राजकुमार

टोंक

5/6/2016

ख़तरा

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

ख़तरा

जब ज़िंदगी सीधी लाइन पर चले

तो भाप लेना की कोई ख़तरा है

ज़िंदगी में अगर सरगर्मी की असर नदारद है

तो भाप लेना यह अंतिम क्षण है

तो भाप लेना की तुम अब कुछ भाप ही नहीं सकते

तुम्हें भापने के लिए इस सीधी लाइन को टेढ़ी करनी होगी

जहां से ख़तरा शुरू होता है ।

फिर कह लेना की तुम ज़िंदगी की सांस ले रहे हो।

राजकुमार

सिरोही

20 जनवरी, 2016

बटोही

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

कल चलता हुआ

The Story of Life

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

water poster

महापर्व

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

IMG_8594