चुप्पी

Posted: June 28, 2016 in Uncategorized

चुप्पी के इस अवतार में , सरकार के कारोबार में, चुप्पियों के इस पुरातन और नए फैशन में, एक चुटकी चुप्पी तोड़ने के लिए , चलो चुप्पी को एक चित्कार से रूबरू करवाते हैं… एक चुप्पी को तोड़ने के लिए एक मूठठ चित्कार ज़रूरी है।

Rajkumar

Tonk 6/10/15

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s