जावर की प्रभात फेरी

Posted: May 8, 2021 in Uncategorized

जावर की प्रभात फेरी

हर एक रोज दुनिया के लिए पहला और कभी वापस न आने वाला दिन बन कर आता है। ये आना और जाना नापने और समझने के लिए हमने `घंटाघर बनाए हैं।  जो हर बारह घंटे, हर चौबीस घंटे, हर महिने और फिर हर वर्ष का भान दे जाता है। जिस कोरोना युग से मानव पृथ्वी संघर्ष कर रही है ये युग भी घंटाघर में अपनी छाप छोड़ आगे निकल चलेगी। गणितीय तौर पर वो आगे ज़रूर होगी पर सवाल ये है की किस तरह से आगे। क्योंकि नागासाकी का दिन भी दुनिया के महाघंटाघर पर अपनी छाप छोड़ गया और जाने क्या –क्या अनवरत इतिहास होता चला जा रहा है, आप, मैं और वो हर एक चीज़ जिसकी हम कल्पना कर सकते है। लेकिन ऐसा क्या है जो निरंतर विद्यमान है। जो हिरण्यगर्भा है। जो इतिहास वर्तमान और भविष्य से परे है। वो जो नहीं है मतलब, जो है ही नहीं लेकिन समस्त कालों में विद्यमान है। जो चिरंजीवी है। जिसमे आरंभ और अंत दोनों विलय हैं। जो हाज़िर भी है और गायब भी।

फोटो राजकुमार – इलाहाबाद झूंसी ब्रिज

काल का दिव्य एवं अदिव्य रूप में पूरी दुनिया एक अदृश्य भीषण वाइरस से गुफ्तगू  कर रही है। लेकिन यह भीषण वाइरस अलग-अलग तरीके से अपना असर दिखा रहा है। यह भीषण वाइरस मजदूरों के लिए एक तूफानी प्रलय की तरह आ धमका है।  

23 मार्च की एक सभ्य रात में अंतिम बचे-कूचे चिथड़े सपनों के साथ हम बिस्तरी के आगोश में था। अचानक एक बुरे सपने की तरह एक घोषणा कानों को भेदती हुई दिमाग की छोटी से छोटी नसों में जा घुसी। फिर क्या था। हमेशा की तरह एक जनरल डिब्बा बन कर टट्टी पिशाब दबा कर निकल पड़ा। आप जानते हैं जब केवल निकलना मुख्य उद्देश्य हो जाये तो समझना सभ्यता नज़र छुपा रही है, बचना चाह रही है। बचा खुचा बिना पानी के ही लील जाना चाह रही है। काली माई दियासलाई, भागो बच्चों आफत आई, बचपन का ये खेल याद आया और फिर क्या था आफत के सिने को चीरते हुए मैं निकल पड़ा।

जावर चलता जा रहा था और आस –पास की बिल्डिंगों को देख उसे याद आता जा रहा था की कैसे एक खाली मैदान को उसके फौलादी हाथो ने वहाँ एक स्वर्ग जैसी आकृति खड़ी कर दी थी। वो शहर से निकलता जा रहा था और अपनी यादों को अदरक की तरह कुरेदता जा रहा था। उसके वो मजदूर साथी याद आते जा रहे थे जिनका बीड़ी का कर्ज़ आज तक नहीं उतरा, याद ठेकेदार भी आ रहा था जिसको जावर प्लास्टिक से निकाल कागज़ कप में चाय दिया करता था और मालिक भी। जावर को मालिक याद आते ही उसे लगता था जैसे उसकी रूह मालिक ने अपने पॉकेट में बंद कर ली हो। यह उसे हमेशा प्रतीत होता था। इसके बावजूद भी वो बांस की सीढ़ियों से सीमेंट ले जाते हुए मालिक को गौर से देखता उसकी मुस्कान और गुस्सा दोनों जावर को भलीभाँति याद है। जावर जब भी मालिक को देखता उसको लगता की ब्रह्म अगर कहीं होगा तो इसकी तरह ही होगा। कितना लाल, दो ठुड्डियों वाला एक शानदार आदमी जिसके आते ही मशीनों की बूढ़ी मशीनरियों में जैसे जादू छा जाता और एक नरक की गति से चलने वाली कर्कश आवाज़ कान को चाटने लगती। शहर से धीरे धीरे निकलता हुआ जावर अपने यादों से कबड्डी खेलता हुआ चल रहा है। 

अहिंसा उर्फ मोहनदास घायल अवस्था में हाइवे पर अपने दुर्बल शरीर को घसीटते चला जा रहा था।

जावर से मोहनदास पूछते हैं

अहिंसा: कहाँ जा रहे हो? लगता है कई दिनों से नहाये नहीं हो। नाम क्या है तुम्हारा।

जावर : जी जावर, नंगा नहाएगा क्या और निचोड़े क्या? मैं तो बस निकल पड़ा हूँ। निकलने के रास्ते निकाल दिया गया सो निकल पड़ा।

अहिंसा: करते क्या हो?

जावर: भवन, कार्यालय और भुवन बनाने की मजदूरी करता  हूँ और पेंट भी कर लेता हूँ। अगला धंधा मिलता कि बीमारी छा गयी। लोगों को ऐसी छींक आई की छींक ही बात चल पड़ी। एक बात पूछूं आप बुरा तो नहीं मानेंगे?

अहिंसा : हाँ पूछो।  

जावर: क्या है कि आपके घायल शरीर को देख कर अश्वत्थामा की याद आ गयी।  मेरा ससुरा कहानी सुनाने में उस्ताद था बड़ी अजीब –गरीब कहानी सुनाता था। उसी ने सुनाया था युद्धो प्यासी आत्मा की तरह भटकती रहती है इस वजह से अश्वत्थामा घायल दर-बदर भटकते , मैं कहूँ लगता है आपको रास्ते में वो कहीं मिल गया और आप पर भारी पड़ गया। आप कहाँ जा रहे हैं? उसने आप की ये हालत क्यों की?

अहिंसा: देखों, मुझे अश्वत्थामा कत्तई सुहाता नहीं। वो नरपशु की तरह धावा करता है और हिंसा से लबालब है। लेयर्टीज़ की तरह अपने बाप का बदला लेना चाहता है। मैं तो इस देश की हर नदी और समुद्र में गोते लगाते रहता हूँ इसलिए इलाहाबाद से अब आगे निकल रहा था।

जावर: देखिये आपके निकलने और मेरे निकलने में फ़र्क है।

अहिंसा: फ़र्क नहीं है भाई! असल में हम दोनों ही घायल हैं। बात ये है कि तुम और मैं दोनों को राष्ट्रवादी प्राच्य नशेड़ियों ने ही घायल किया है। हे राम! मेरे सीने की गोलियां आम की गुठली की तरह कई सालों से फेफड़ों में अटकी हुई हैं। मैंने जो जंतर बनाया था अंतिम लाइन हो या मध्य लाइन निकल पड़ने और निकाल देने की नौबत ही न आए, पर ये लोग सुनते कहाँ हैं। इसलिए तो मैं हाइवे से हाइवे के रास्ते घूमता हूँ। क्या मुझे कुछ दूर तक अपने  साथ ले चल सकोगे। दर्द बढ़ता ही जा रहा है।

जावर ने सबरी की तरह अपनी धूसर बोतल से पानी की दोचार घूंट पिलायी और अहिंसा को अपने कंधे पर बैठा कर पहले की ही भांति चलने लगा।

रात में जैसे जावर की चाल में जोश आ गया हो। वो उस घायल व्यक्ति को अपने कंधे पर बैठा आगे चल ही रहा था कि इस सात मई की चाँदनी रात में इस रोशनरात में एक व्यक्ति निडर होकर सड़क के बीचोबीच लंबा कोट नुमा लबादा पहने बैठा हुआ, लिखने में व्यस्त है।                                    

अहिंसा: ये दूर परछाई सा कौन दिख रहा है। मानो बहकती नदी के ऊपर कोई साधना कर रह हो? प्रलय की अशांति में शांति से मिलाप कर रहा हो।   

जावर आश्चर्य से देखता और बढ़ता रहा, जावर को ससुर की सुनाई कहानियों के अजीबो गरीब पात्र याद आ जाते और जावर का हृदय गति दिमागी गति से तीव्र हो उठता।

जावर: मैं पूछता हूँ उससे, सुनो! तुम रास्ता छोड़ो आगे जाने दो हमें, इस बदसूरत रात में क्या लिख रहे हो? तुम तांत्रिक हो या आत्मा के संधार्थी हो या क्या हो? तुम क्या लिख रहे हो घर नहीं है क्या तुम्हारा? क्या तुमको भी निकाल दिया गया है?

परछाई वाला व्यक्ति: हाँ मैं भी कई वर्ष पहले ही निकल पड़ा हूँ अकेले ही अपनी खोज में…

तभी जावर के कंधे से फुसफुसाहट सुनाई दी कि  तुम्हारी आवाज़  जानी पहचानी है। इतने में दोनों ज़रा करीब आते हैं और एक दोस्त की तरह अचानक एक दूसरे को निहारते हैं। अहिंसा पहचान जाता है और कहता है।

अहिंसा: अरे! गुरु जी, तुमि की लिखछों, कितने लंबे समय बाद ऐसी अबाक मुलाकात हुई। आखिरी मुलाकात जब तुम विद्यालयकुंज के लिए चंदा इकठ्ठा करने दिल्ली नाटक खेलने आए थे, कुछ याद आया गुरुमित्र।   

परछाई वाला व्यक्ति: हाँ याद आया, मैं तो एक नयी पृथ्वी लिखना चाहता हूँ सो लंबी यात्रा कर इधर हाइवे पर ही रुक गया था, तनिक अशांत विश्राम की इच्छा हुई। पर ये बताओं तुम्हारा सीना घायल क्यों हैं।

अहिंसा : (हिचकिचाते हुए बोला)  कुछ, कुछ नहीं मित्र।

परछाई वाला व्यक्ति: बोलिए , आप तो बोलते रहे हैं।

इन दोनों के चक्कर में जावर घन चक्कर हुआ जा रहा है की ये दोनों पहले से एक दूसरे को जानते हैं।  इन दोनों को बातचीत करते देख कल्पना की खिड़कियाँ खोल लेता है। तरह –तरह के ख्याल आने लगते हैं। दोनों की बातों को सुन जावर के अंदर जैसे एक नया सवेरा झांकने लगा। जावर जैसे बंजर खेत में हल जोतने लगा। मानो की हल जोतने के घर्षण से सुखी ज़मीन की छाती जल प्लावन में डूब गयी। उधर रबि अपने मित्र अहिंसा से बात करते –करते गीत गा उठते हैं। जोदि तोर डाक शुने केउ न आशे…। जावर अपने ख्यालों में खोया, यह सब सुन ही रहा था कि यकायक बोल उठा।  

जावर: मिलों लंबी यात्रा करनी है मैं अब आगे चलूँ ?    

अहिंसा और रबि ने जावर की बात सुनी, पर अहिंसा फिर अपने बात को जारी रखते हुए कहने लगा।

अहिंसा: क्या कहूँ रबि भाई जिस रंगा सियार राष्ट्रवाद को मैं रिपेयर करना चाह रहा था उसी ने मेरे सिने को घायल किया और वही आघोरियों की तरह अपना एजेंडा तब भी और अब भी चलाये जा रहे हैं। एक नरपशु की तरह चाहे कोरोना युग का संकट में भी भीड़ के रूप में हत्याएँ करते हैं हिंसा इनका जैसे मुख्य सूत्र हो। दिमाग़ी गुलामी कब छटेगी।

परछाई वाला व्यक्ति: इस अमानवीय राष्ट्रवाद को मैकाले की सरकार ने ऐसे खूँटे से बांधा है जो एक मंद विष की तरह है और देश की रगों में अफीम बन कर घुल गयी है। जहां देश के ऊपर राष्ट्र सवार है, जहां देश से ऊपर धर्म क़ाबिज़ है। इससे व्यक्ति की अभिव्यक्ति हमेशा संकटों से घिरी रहेगी, स्वत्रंता के रंग में एक जानलेवा माहौल, जो इस देश को खा जाएगी।  चिरजगत जागो हे! एई जागोरोणे, चित्तो जेथा भोय शुन्नो…।

जावर: देखो भाई आप लोग जल्दी दोस्ती यारी पूरा करो, मुझे आगे निकलना है।

परछाई वाला व्यक्ति और अहिंसा दोनों जावर से आगे बढ़ने के लिए कहते हैं…तुम जाते जाओ केवल जाते जाओ, जाते जाना ही मंज़िल है, जाओ और इन रक्तपिपाशु राष्ट्रवादियों से कहना कि हम बारबार आएंगे और मानव का परचम लहराएँगे। तुम्हारा राष्ट्रवाद एक खूंखार दीमक की तरह है, जो इस कोरोना काल में असली रूप में अंततः आ ही गया है और नरपशु बना हुआ है। अरे! ओ युगांतर के जावर, तुम जागते रहना, तुम्हारा जागना ही इस देश के आत्मा की अंतिम लौ है।

अचानक जावर को उसी जोश का आभास हुआ मानो उसको कोई संजीवनी मिल गयी हो। वो हवा से बातें करता आगे निकल पड़ा और धीरे –धीरे हाइवे के असीम दो धारी लाइनों में खो गया। आस भरी नज़रों से दोनों परछाई वाला व्यक्ति और अहिंसा खड़े निहारते रहे। वो जावर को आस भरी निगाहों से एक टक देख रहे थे मानो ये एक भीषण समय है और जावर इसको बदलने का गुप्त मंत्र जान गया हो, मानों हजारों वर्षों के बाद कोई पौ फट रही थी। उधर जावर चलता ही जा रहा था और भोर की पहली लालिमा में समाया जा रहा था। जावर की दिशा से आती हुई हवा ने दोनों के कानों में आवाज़ का एक सैलाब उठा दिया … हम जाग रहे हैं और जाग रहे हैं, जावर जाग रहा है … इस निरंकुश रात के बाद एक नयी सुबह आ रही है।

जावर, रात चल कर काटने के कारण थक कर हाइवे के किनारे बैठ सुबह – सुबह एक अखबार के टुकड़े से लिपटी हुई अपनी अंतिम रोटी का अंतिम ग्रास चबा रहा था, और थकी हुई नज़रों से निंदासी हुई नज़रो से अखबार में छपे हेडलाइन ‘देश सीख नहीं पाया : टैगोर और गांधी देश की आत्मा के कृषक’ और इस  हेडलाइन के नीचे छपे दोनों की तस्वीरों पर टिकी हुई थी। नींद और जागते रहने के बीच उसका दिमाग जूझ रहा था। वो ज़रा सुस्ताकर अपने घर जाने की राह में आगे बढ़ना चाह रहा था। अहिंसा और परछाई वाला व्यक्ति के बातों की ध्वनि अभी भी इसके कानों में ज़िंदा थी। जावर परछाई वाले व्यक्ति की एक बात याद आ रही थी रवह बोल रहा था। ‘आ गए अघोरियों के दल, लोग पकड़ने वाले अघोरियों के दल जिनके नाखून भेड़ियों से भी तेज़ है।‘

अचानक जावर घबराकर खड़ा हुआ जी मेरा आधार कार्ड हहहहै। नहीं, मैं दिल्ली से चल रहा हूँ। मोतीहारी जाना है। पुलिस जावर से पूछताछ कर, नज़दीक ही चल रहे दूसरे मजदूरों के जत्थे से पूछने लगी। कहाँ जा रहे हो तुम सब?   साहब अपने घर और इतने में मौका देख जावर भी इसी समूह के साथ हो लिया और उनके गीत को गुनगुनाते हुए आगे निकल पड़ा, छोटीमुकि गांधी बाबा देस के रतनवा हो, जात रहले पुजा करे एक गोली फायर भईले…।

सुनसान सड़क पर मजदूरों का झुंड चला जा रहा था।  ये गुनगुनाहट सभ्य हाइवे पर पसरे सन्नाटे को चिढ़ाती जा रही थी। मानो ये गीतध्वनि कुम्भकर्ण को उठा कर ही मानेगी।   

(रामरतन गुगलिया, फिरोज़ आलम और गंगेश्वर तिवारी को सहृदय धन्यवाद, जिन्होने इस लेख की प्रूफ रीडिंग की )

राजकुमार

8 मई, 2020

Comments
  1. कृपया अधिक बार लिखें क्योंकि मुझे आपके ब्लॉग से प्यार है। धन्यवाद!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s